नील स्वर्ग

नील स्वर्ग
प्रकृति हर रंग में खूबसूरत होती है , हरी, पीली , लाल या फिर नीली

Monday, March 7, 2011

पोजिटिव थिंकिंग

मेरे पिताजी श्री गजानंद जी आर्य , ८२ वर्षीय वृद्ध , कुछ दिनों पहले एक यात्रा पर अजमेर गए . हाथ में एक छड़ी लेकर चलते हैं . ह्रदय रोग के लिए बाई पास सर्जरी , मेरुदंड की सर्जरी इत्यादि के अलावा बहुत सारे इलाज हो चुकें हैं आँखों के , कानों के वैगरह. एक कान से बिलकुल नहीं सुनता , दूसरे से यन्त्र लगा कर काम चल जाता है ; एक आँख बिलकुल अन्धकार में है , दूसरी से थोडा दीखता है .

इस अजमेर यात्रा के दौरान एक दुर्घटना हो गयी . वो कुर्सी से उठ कर चले तो अचानक गिर गए . संभल नहीं पाए और शरीर के दायें तरफ नीचे गिर गए ; फलस्वरूप उनके दाहिने पैर की जांघ की हड्डी और दाहिने कंधे की एक हड्डी टूट गयी. उन्हें तुरंत हस्पताल पहुँचाया गया . डाक्टर ने उन्हें हर समय बिस्तर पर बिना करवट लिए सोने की सलाह दी . दाहिने पैर को हिलाना तक मना  हो गया .इस अवस्था को बनाये रखने के लिए उनके दाहिने पंजे से बाँध कर एक अढाई किलो का वजन लटकाया गया . दाहिने हाथ को हिलाने डुलाने की आज्ञा नहीं है, उसे एक प्लास्टर लगा कर पूरी तरह बाँध दिया गया है .  इस प्रकार पिताजी पिछले ६ दिनों से बिस्तर पर लेटें हैं.

उनकी ये अवस्था देख कर हम सब परिवार वाले बहुत दुखी हैं . मैंने उनसे पूछा - पिताजी ! आप बहुत कष्ट में हैं , देख कर बहुत तकलीफ हो रही है . जो उत्तर उन्होंने मुझे दिया वो सुनकर मुझे जीवन के लिए एक बहुत बड़ा ज्ञान मिला . उन्होंने कहा - बेटा ! तुम्हे ये देखना चाहिए कि ईश्वर कितना दयालु है . मेरी आँखें ख़राब हुई , तो उसने फिर भी एक आँख ऐसी रखी जिससे मैं देख पाता हूँ . जब कानों में खराबी आई तो भी उसने मेरे एक कान को इतना स्वस्थ रखा कि मैं काम चलाने लायक सुन सकूं . अब जब ये दुर्घटना हुई तो भी उसने एक पैर और एक हाथ बचा कर रखा जिससे मैं थोड़ी बहुत खुद की मदद कर सकूं . इसलिए हमें तो ईश्वर को धन्यवाद देना चाहिए कि तुमने बहुत कृपा की .

किसी मनुष्य की सोच किस कदर सकारात्मक हो सकती है , इसका एक अनुभव हुआ . उससे भी बड़ा अनुभव ये हुआ की कष्ट के समय में एक साधारण व्यक्ति अपनी पीड़ा के लिए रो रो कर सभी लोगों को और अधिक निराश व उदास करता है , लेकिन ऐसा सकारात्मक मस्तिष्क रखने वाला अपने घोर दुःख की घड़ियों में भी अपने आप को कैसे खुश रख सकता है ! जब सब कुछ बुरा होता है तब भी ईश्वर मन के लिए कितना बड़ा सहारा बन जाता है !

मुझे गर्व है ऐसे पिता पर !   

1 comment:

  1. आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा , आप हमारे ब्लॉग पर भी आयें. यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . हम आपकी प्रतीक्षा करेंगे ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच
    डंके की चोट पर

    ReplyDelete